मत आना मेरे नगर

 मत आना

तुम मेरे नगर

मैं बहुत तंग हो जाता हूँ 

और उससे भी ज्यादा

तंग करते हैं सुरक्षा कर्मी,

मैं नहीं खरीद पाता हूँ सब्जियां,

मुझे नहीं मिलती है

दवाइया तुम्हारे आने पर, 

तरेरता है आँखें सुरक्षा कर्मी

जैसे मैं  कोई अपराधी हूँ,

मुझे नहीं मिलता है 

थ्री वीलर,

मैं अब पैदल नहीं चल पाता

ढूंढना पड़ती है 

मुझे कोई सवारी

वो भी तुम्हारे  

आने पर अपना रेट

एकाएक बढा देते है

जैसे कल तो आना ही नहीं है

आज ही जी लो जीवन, 

और सुनो

बड़े चौक पर 

बढ़ी मुछो वाला 

तुम्हारे आने पर

और ज्यादा  डरावना लगता है

तुम्हारे आने पर 

वो क्यों घूरता रहता है हमेशा,

स्वागत किया है मैंने 

तुम जब भी आए हो मेरे नगर

मैंने सुन ली है

तुम्हारी बहुत सी बातें

नहीं है मुझे तुम पर विश्वाश

तुम्हारी भाषा 

अब मुझे समझ नही  आती

मत आना तुम मेरे 

नगर दुबारा।

0 सुझाव / मार्गदर्शन:

एक टिप्पणी भेजें

" आधारशिला " के पाठक और टिप्पणीकार के रूप में आपका स्वागत है ! आपके सुझाव और स्नेहाशिर्वाद से मुझे प्रोत्साहन मिलता है ! एक बार पुन: आपका आभार !