! !

आजकल कहाँ रहता हूँ मैं


पूछते हो अब कहां रहता हूँ मैं 
जहां कोई नहीं वहीं रहता हूँ मैं ।

भीड़ है, लोग हैं सब ही तो हैं यहां, 
एकाकी हूँ खामोशी से बहता हूँ मैं ।

पुष्प पसन्द है सबको, लेते है सुंगध
बंजर हूँ, वेदना कांटों की सहता हूँ मैं ।

खूब सजाए है महल तुमने कैसे कैसे,
किराए के मकां को घर कहता हूं मैं।

चलो अच्छा है अब भ्रम तो टूटा , 
रिश्तों  की ओट में बिकता रहा हूँ मैं ।


छला है अपना बन कर सभों ने,
यूं ही नहीं विक्षिप्‍त सा घूमता हूं मैं। 


4 COMMENTS:

yashoda Agrawal on 13 जनवरी 2018 को 4:23 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 14 जनवरी 2018 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

Sudha Devrani on 14 जनवरी 2018 को 6:30 am ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

वाह!!!
बहुत सुन्दर...

Renu on 14 जनवरी 2018 को 9:58 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत ही सुंदर पंक्तियों से सजी रचना बहुत मर्मस्पर्शी है | दुसरा शेर खास तौर पर पसंद आया | सादर शुभकामना --

रश्मि शर्मा on 14 जनवरी 2018 को 11:08 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत बढ़िया

एक टिप्पणी भेजें

" आधारशिला " के पाठक और टिप्पणीकार के रूप में आपका स्वागत है ! आपके सुझाव और स्नेहाशिर्वाद से मुझे प्रोत्साहन मिलता है ! एक बार पुन: आपका आभार !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लेखा जोखा



आपके पधारने के लियें धन्यवाद Free Hit Counters

 
? ! ? ! INDIBLOGGER ! ? ! ? ! ? ! ? ! ? हिंदी टिप्स ! हिमधारा ! ऐसी वाणी बोलिए ! ? ! ? ! ब्लोगर्स ट्रिक्स !

© : आधारशिला ! THEME: Revolution Two Church theme BY : Brian Gardner Blog Skins ! POWERED BY : blogger