! !

बुधवार, सितंबर 11

मेला चार साला कुमारसैन



मेला चार साला कुमारसैन क्षेत्र में बडी हर्षोउल्‍लास के साथ मनाया जाता है । इस मेले के इतिहास के बारे में बडी विडम्‍बनाएं है । माना जाता है कि 11वी शताब्‍दी में जब पूरातत्‍व विभाग द्वारा कुमारसैन क्षेत्र की खुदाई की गई तो जगह-जगह मिटटी के बतर्नो के अवशेष प्राप्‍त हुए । प्राचीन काल में जाति के अधार पर कार्य को बांटा गया था  जिसके अनुसार मिटटी के बर्तन तैयार करने वाले लोग कुम्‍हार जाति से सम्‍बंधित थे । और इसी अधार पर इस क्षेत्र में कुम्‍हार लोगों का वास था । इस जगह को कुमाहलड़ा  भी कहा जाता था । परिणामत: इस क्षेत्र का नाम कुमारसैन पड़ा ।            कुमारसैन के राजा बिहार गया से गजनबी के आतंक से भाग कर आए थे । वह कुछ समय कोढगड नामक स्‍थान पर रहे । एक बार राजा शिकार करते-करते कुमारसैन आए । उन्‍होनें यहां एक घटना देखी। उन्‍होनें देखा कि एक चूहे ने नेवले को निगल लिया । ऐसा देख राजा अचंभित था उसने अपने सलाहकार ब्राहमण से इसके बारे में पूछा और कहा इस घटना का क्‍या कारण है  । ब्राहमण ने कहा य‍ह वीर माटी के संकेत है । यह हम जैसे ब्रामणों के लिए नही बल्कि आप जैसे राज पुरूष् के लिए बहुत शूभ भूमी है । इसके पश्‍चात राजा ने याहां महल व राजगददी भवन बनाने का निर्णय लिया । इससे पूर्व यहां का राजपाठ स्‍वयं देवता श्री कोटेश्‍वर महादेव सम्‍भालते थे । इस क्षेत्र में महादेव की आज्ञानुसार सारे कार्य किए जाते थे । उसी रोज महादेव ने राजा को सपने मे दर्शन दिए और कहा कि मै तुमसे प्रसन्‍न हूं तथा वरदान मांगने को कहा यह सुनकर राजा ने महल बनाने की इच्‍छा जाहिर की । महादेव बोले तुम यहां महल बना सकते हो पर सर्वप्रथम मेरा मन्दिर तुम्‍हे स्‍थापित करना होगा । इतने मे ही राजा का स्‍वप्‍न टूट गया ।  इसके पश्‍चात राजा श्री कोटेश्‍वर महादेव के मन्दिर में महादेव की आज्ञा लेने गए । महादेव ने सपने को दौहराया और कहा  हर चार साल के बाद में कुमारसैन वासियों को दर्शन देने बाहर निकलूंगा और समय-समय से मेरी पूजा अर्चना करनी होगी । यदि तुम इन बातों पर अम्‍ल करोगें तो मेरा आर्शिवाद हमेशा तुम पर बना रहेगा । इस बात को सुनकर राजा प्रसन्‍न हुआ और उसने महादेव की इच्छानुसार सारे कार्य किए । और महल के अन्‍दर श्रीकोट मन्दिर का निर्माण किया तथा महादेव को छड के रूप में प्रतिष्‍ठीत किया गया व इसकी पूजा राजपुरोहित द्वारा की जाने लगी । आज भी राजपुरोहित द्वारा पुजे जाने की परम्‍परा विद्यमान है ।    इसके पश्‍चात हर चार साल के बाद मेले का आयोजन दरबार मैदान में किया गया । इसी परम्‍परा पर अधारित आज भी यह मेला मनाया जा रहा है । जो हर चार साल में सितम्‍बर माह में मनाया जाता है । जिसमें राजवंश के लोगों का समिलित होना आवश्‍यक होता है । तभी
महादेव श्रीकोट मन्दिर के प्रांगण से प्रथम बार बा‍हर आते है । यह मेला 7/8 दिनों में चलता है और हर एक दिन अपने आप में अनूठी भूमिका अदा करता है । हर एक दिन एक दूसरे को कडी के रूप में जोडे रखता है । लोगों की देवी परम्‍परा के प्रति आस्‍था इस मेले मे देखते ही बनती है । लोग बडी दूर-दूर से आकर इसमे भाग लेना अपना सौभाग्‍य मानते है ।
इस बारे इतिहास काफी वर्षो पूर्व श्री अमृत शर्मा ने अपनी पुस्‍तक में समाहित किया है

1 COMMENTS:

कुमारसैन शान-ए हिमाचल on 27 सितंबर 2013 को 5:15 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत सुन्‍दर, साभार के लिए धन्‍यवाद ।

एक टिप्पणी भेजें

" आधारशिला " के पाठक और टिप्पणीकार के रूप में आपका स्वागत है ! आपके सुझाव और स्नेहाशिर्वाद से मुझे प्रोत्साहन मिलता है ! एक बार पुन: आपका आभार !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लेखा जोखा



आपके पधारने के लियें धन्यवाद Free Hit Counters

Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution-NonCommercial-NoDerivs 3.0 Unported License.
 
ब्लोगवाणी ! चिठाजगत ! INDIBLOGGER ! BLOGCATALOG ! हिंदी लोक ! NetworkedBlogs ! INDLI ! VOICE OF INDIANS हिंदी टिप्स ! हिमधारा ! ऐसी वाणी बोलिए ! हिमाचली ब्लोगर्स ! हिंदी ब्लोगों की जीवनधारा ! ब्लोगर्स ट्रिक्स !

© : आधारशिला ! THEME: Revolution Two Church theme BY : Brian Gardner Blog Skins ! POWERED BY : blogger