! !

जिजीविषा हार गई


जिजीविषा
हार गई
वो सह नहीं पाई
निरन्‍तर दौड़ना
प्रतीक्षा करना
डायलसिस की वेदना
अनावश्‍यक डांट
जिजीविषा 
सह गई
अमानवीय व्‍यवहार
और
यम
जीत गया,
जिजीविषा
हार गई
और सो गई
सदा के लिए।





3 COMMENTS:

Ashwini Ramesh on 22 अगस्त 2012 को 10:56 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

जब तक साँस तब तक आस !इस कविता के पात्र का देहांत हो गया ,ऐसा लगता है !

S.N SHUKLA on 27 अगस्त 2012 को 9:28 am ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates


बहुत सुन्दर प्रस्तुति, सादर.

मेरे ब्लॉग की नवीनतम पोस्ट पर आपका स्वागत है .

संध्या शर्मा on 9 जनवरी 2013 को 1:28 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत तकलीफदायक होती है डायलिसिस की वेदना, शायद उसे इस चिरनिद्रा से ही आराम मिलता... अपनी माँ को देखा है बहुत करीब से इस वेदना से जूझते और हार कर सोते...मार्मिक प्रस्तुति... आभार

एक टिप्पणी भेजें

" आधारशिला " के पाठक और टिप्पणीकार के रूप में आपका स्वागत है ! आपके सुझाव और स्नेहाशिर्वाद से मुझे प्रोत्साहन मिलता है ! एक बार पुन: आपका आभार !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लेखा जोखा



आपके पधारने के लियें धन्यवाद Free Hit Counters

 
? ! ? ! INDIBLOGGER ! ? ! ? ! ? ! ? ! ? हिंदी टिप्स ! हिमधारा ! ऐसी वाणी बोलिए ! ? ! ? ! ब्लोगर्स ट्रिक्स !

© : आधारशिला ! THEME: Revolution Two Church theme BY : Brian Gardner Blog Skins ! POWERED BY : blogger