! !

बुद्ध को भिक्षा



भगवान् बुद्ध लंबे अरसे के बाद सदाचार धरम का प्रचार करते हुए कपिलवस्तु पधारे ! उन्हें भली भाँती स्मरण था की यशोधरा के अनूठे त्याग के बिना वह इस स्थिति में नहीं पहुँच सकते थे ! यशोधरा के प्रति एक बार वह कृत्यागता ज्ञापन करना चाहते थे ! इसलिए वह महल में भिक्षा लेने जा पहुंचे !
समाचार मिलते ही यशोधरा खुशी खुशी उनके दर्शनों के लिए जा पहुँची दोनों आमने सामने भावः विह्वल खड़े थे ! भगवान् बुध बोले यशोधरा आज मैं भिक्षा लेने तुम्हारे द्वार पर आया हूँ ! क्या तुम मुझे भिक्षा दोगी ?
यशोधरा ने कहा आपके गृह त्याग के बाद भला मेरे पास और क्या रह गया है ! कुछ क्षण विचार मगन होने के बाद उन्होंने कहा भगवान् मैं भिक्षा मैं जो भी दूंगी क्या आप उसे स्वीकार करेंगे ? भगवान् बुध ने कहा भिक्षु धर्म की मर्यादा का उलंघन नहीं होगा तो अवश्य स्वीकार कर लूंगा !
यशोधरा ने पुत्र राहुल को पुकारा आने के बाद वह बोली राहुल को भी अपनी पितृ परम्परा निभाने लिए अवसर दीजिये ! उन्होंने राहुल से कहा पुत्र पितृ परम्परा का अनुसरण करो बुध की शरण में जा कर अपना जीवन सार्थक करो ! यशोधराऔर बुध के संस्कारी पुत्र राहुल ने बुध के चरण स्पर्श किए और वह उनका शिष्य बन कर साथ चल दिया !

1 COMMENTS:

alka sarwat on 6 मई 2009 को 9:38 pm ने कहा… Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

माननीय रोशन जी ,मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए धन्यवाद आपका यह महात्मा बुद्ध का लेख मुझे बचपन में पढी हुई वह कविता याद दिला गया --माँ कह एक कहानी .......आपको साधुवाद !

एक टिप्पणी भेजें

" आधारशिला " के पाठक और टिप्पणीकार के रूप में आपका स्वागत है ! आपके सुझाव और स्नेहाशिर्वाद से मुझे प्रोत्साहन मिलता है ! एक बार पुन: आपका आभार !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लेखा जोखा



आपके पधारने के लियें धन्यवाद Free Hit Counters

 
? ! ? ! INDIBLOGGER ! ? ! ? ! ? ! ? ! ? हिंदी टिप्स ! हिमधारा ! ऐसी वाणी बोलिए ! ? ! ? ! ब्लोगर्स ट्रिक्स !

© : आधारशिला ! THEME: Revolution Two Church theme BY : Brian Gardner Blog Skins ! POWERED BY : blogger